Thoughts of mother in hindi


Thoughts of mother in Hindi| Mother day quotes in Hindi and best Mothers thought in Hindi | Emotional Mothers Thoughts in Hindi

Thoughts of mother in hindi
Thoughts of mother in hindi

Thoughts of mother in Hindi

रौशनी देती हुई सब लालटेनें बुझ गईं
ख़त नहीं आया जो बेटों का तो माएँ बुझ गईं

--------------------------------------------

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे


--------------------------------------------

ऐसे तो उससे मोहब्बत में कमी होती है,
माँ का एक दिन नहीं होता है, सदी होती है।


--------------------------------------------


आँखों से माँगने लगे पानी वज़ू का हम


काग़ज़ पे जब भी देख लिया माँ लिखा हुआ

--------------------------------------------

ये ऐसा कर्ज है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता,


मैं जब तक घर न लौटूं, मेरी माँ सज़दे में रहती है


--------------------------------------------

चलती फिरती आँखों से अज़ान देखी है

मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखि है

--------------------------------------------


मामूली एक कलम से कहां तक घसीट लाए

हम इस ग़ज़ल को कोठे से माँ तक घसीट लाए


--------------------------------------------
-> Mothers Day Wishes
-> Best Flowers for mothers day
-> Mothers Day HD Images
-> Mothers days quotes form son, daughter
-> Mothers Day Images, Wallpaper 2018

--------------------------------------------------------------


मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू


मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना


--------------------------------------------

Mother day quotes in Hindi and best Mothers thought in Hindi


लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती

बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती
--------------------------------------------


अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की राना


माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है


--------------------------------------------


मुसीबत के दिनों में माँ हमेशा साथ रहती है


पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है


--------------------------------------------


जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा


मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा


--------------------------------------------


--------------------------------------------

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई


मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई


--------------------------------------------


ऐ अँधेरे! देख ले मुँह तेरा काला हो गया


माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया


--------------------------------------------


इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है


माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है

--------------------------------------------


मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ


माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ

--------------------------------------------

हादसों की गर्द से ख़ुद को बचाने के लिए


माँ ! हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे

--------------------------------------------

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे


माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे

--------------------------------------------


यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा

ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा

--------------------------------------------


अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कु्छ भी नहीं होगा

मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है

--------------------------------------------


कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे

माँ कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी

--------------------------------------------


दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन

माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है


--------------------------------------------


दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं

कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है

--------------------------------------------

Emotional Mothers Thoughts in Hindi


दिया है माँ ने मुझे दूध भी वज़ू करके

महाज़े-जंग से मैं लौट कर न जाऊँगा

--------------------------------------------

बहन का प्यार माँ की ममता दो चीखती आँखें

यही तोहफ़े थे वो जिनको मैं अक्सर याद करता था

--------------------------------------------

बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर

माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है

--------------------------------------------
खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से

बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही

--------------------------------------------

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है

किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है

--------------------------------------------

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं

सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़ ए माँ रहने दिया


--------------------------------------------

माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना

जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती

-----------------------------------------

0 comments